श्री बद्रीनाथ जी की आरती

श्री बद्रीनाथ जी की आरती

जय जय श्री बद्रीनाथ,
जयति योग ध्यानी || टेक ||

निर्गुण सगुण स्वरूप, मेधवर्ण अति अनूप |
सेवत चरण स्वरूप, ज्ञानी विज्ञानी | जय…

झलकत है शीश छत्र, छवि अनूप अति विचित्र |
बरनत पावन चरित्र, स्कुचत बरबानी | जय…

तिलक भाल अति विशाल,
गल में मणि मुक्त-माल |

प्रनत पल अति दयाल,
सेवक सुखदानी | जय….

कानन कुण्डल ललाम,
मूरति सुखमा की धाम |

सुमिरत हों सिद्धि काम,
कहत गुण बखानी | जय…

गावत गुण शंभु शेष,
इन्द्र चन्द्र अरु दिनेश |

विनवत श्यामा हमेश,
जोरी जुगल पानी | जय…