हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

Back to homepage
हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

श्री गांघी जी का भजन

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है | जो जागत है सो पावत है, जो सोवत है सो खोवत है | टुक नींद से अंखियाँ खोल

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

आरती क्या है और कैसे करनी चाहिए

साधारणत: पाँच बत्तीयों से आरती की जाती है, इसे ‘ पंचप्रदिप’ भी कहते है| एक सात या उससे भी अधिक बत्तीयों से भी आरती की जाती है| कपूर से भी

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

हिन्दुओं में कोई पैगम्बर नहीं है

दुनिया के दूसरे धर्मों में पैगम्बरों की भूमिकाएं रही हैं। इस्लाम धर्म में कई पैगम्बरों का वर्णन है। ईसाई धर्म में ईसा मसीह धर्म के प्रवर्तक थे। लेकिन हिन्दू धर्म

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

ईश्वर से डरें नहीं, प्रेम करें और प्रेरणा लें

हिन्दू धर्म में कई देवी-देवताओं का वर्णन है। मान्यतानुसार हमें भगवान ने बनाया है और वही हमारा पालन करता है। हम सभी परमपिता ईश्वर की सन्तान हैं। भगवान कई प्रकार

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

हिन्दुत्व एकत्व का दर्शन है

हिंदू धर्म केवल एक धर्म नहीं बल्कि जीने का तरीका है। हिन्दुत्व के कई सिद्धांत पूर्णत: व्यवहारिक यानि प्रैक्टिकल जीवन से जुड़े हैं। हिन्दुत्व के प्रमुख सिद्धांतों में से एक

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

हिन्दू दृष्टि समतावादी एवं समन्वयवादी

‘उदारचरितानाम् वसुधैव कुटुम्बकम्’ ।  उपरोक्त पंक्तियों का अर्थ है कि उदारचरित वाले मनुष्य के लिए विश्व की घर होता है। यह पंक्तियां हिन्दू सनातन धर्म के मुख्य दर्शन और सिद्धांत

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

पर्यावरण की रक्षा को उच्च प्राथमिकता

हिन्दू धर्म की प्रमुख विशेषताओं में पर्यावरण की रक्षा भी एक बेहद खास विषय है। प्राचीन वेद-पुराणों से लेकर आध्यात्मिक गुरुओं ने भी पर्यावरण की रक्षा पर बल दिया है।

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

हिन्दुओं के पर्व और त्योहार खुशियों से जुड़े हैं

हिन्दुओं के पर्व एवं त्योहार पर बिना पूर्ण जानकारी किये भी मुबारकबाद दिया जा सकता है क्योंकि हिन्दू मातम का त्योहार नहीं मनाते । राम और कृष्ण के जन्मोत्सव को

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

स्त्री आदरणीय है

हिन्दू धर्म में स्त्री को आदरणीय माना जाता है। वेदों और पुराणों में आदि शक्ति को एक नारी का ही रूप माना गया है। मान्यता है कि त्रिदेव यानि ब्रह्मा,

हिंदुत्व से जुड़े तथ्य

क्रिया की प्रतिक्रिया होती है

हिन्दू सनातन धर्म में मान्यता है कि जो जैसा बोता है वैसा ही काटता भी है और जो जैसा करता है वैसा भी भोगता है। हिन्दू धर्म इस बात पर