व्रत कथा

Back to homepage
पूजा एवं व्रत विधि व्रत कथा

शारदीय नवरात्रि

शारदीय नवरात्री का इतिहास हमारे शास्त्र के अनुसार भगवान राम ने सबसे पहले समुद्र के किनारे शारदीय नवरात्रों की पूजा की शुरूआत की थी। लगातार नौ दिन की पूजा के

व्रत कथा

अनंत चतुर्दशी

भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी का व्रत किया जाता है। इस दिन अनंत के रूप में हरि की पूजा होती है। पुरुष दाएं तथा स्त्रियां बाएं हाथ

व्रत कथा

आमलकी एकादशी

फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आमलकी एकादशी कहते हैं। आमलकी यानी आंवला को शास्त्रों में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त है। विष्णु जी ने जब सृष्टि की रचना के

व्रत कथा

देवउठनी एकादशी

इस दिन माता तुलसी का विवाह किया जाता है, इसके बाद से शादी जैसे कार्य शुरु कर दिए जाते आषाढ़ माह की एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना

व्रत कथा

रमा एकादशी

युधिष्ठिर ने पूछा : जनार्दन ! मुझ पर आपका स्नेह है, अत: कृपा करके बताइये कि कार्तिक के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है ? भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् !

व्रत कथा

कामिका एकादशी

कुंतीपुत्र धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवन, आषाढ़ शुक्ल देवशयनी एकादशी तथा चातुर्मास्य माहात्म्य मैंने भली प्रकार से सुना। अब कृपा करके श्रावण कृष्ण एकादशी का क्या नाम है,

व्रत कथा

योगिनी एकादशी

धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि भगवन, मैंने ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी के व्रत का माहात्म्य सुना। अब कृपया आषाढ़ कृष्ण एकादशी की कथा सुनाइए। इसका नाम क्या है? माहात्म्य क्या है?

व्रत कथा

अपरा (अचला) एकादशी

युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवन! ज्येष्ठ कृष्ण एकादशी का क्या नाम है तथा उसका माहात्म्य क्या है सो कृपा कर कहिए? भगवान श्रीकृष्ण कहने लगे कि हे राजन! यह

व्रत कथा

मोहिनी एकादशी

र्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे कृष्ण! वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी का क्या नाम है तथा उसकी कथा क्या है? इस व्रत की क्या विधि है, यह सब

पूजा एवं व्रत विधि व्रत कथा

देव प्रबोधिनी एकादशी

देव प्रबोधिनी एकादशी को देव उठान एकादशी भी कहा जाता है। कार्तिक मास के 11वें दिन इसे मनाया जाता है। इस दिन से विवाह और अन्‍य मांगलिक कार्यों की भी शुरुआत