धन व्रत

धन व्रत

धन व्रत मार्ग शीर्ष की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को रखा जाता है। इस व्रत को परम उत्तम व्रत माना जाता है
। इस रात के समय भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इसकी महिमा से व्यक्ति को धन की कभी कमी नहीं होती है।
धन व्रत विधि
नारद पुराण के अनुसार मार्ग शीर्ष की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को पूरे दिन उपवास रखकर रात के समय भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। पूजन के बाद विधिपूर्वक हवन करना चाहिए। पूजा की समाप्ति पर सोने की सूर्य प्रतिमा बनाकर उसे लाल कपड़े में लपेटकर ब्राह्मण को दान करना चाहिए।
धन व्रत फल
मान्यता के अनुसार धन व्रत करने वाला व्यक्ति धन-धान्य से सम्पन्न हो जाता है। अग्निदेव की कृपा से व्यक्ति के सभी पाप जलकर नष्ट हो जाते हैं और व जीवन के उत्तम सुखों को भोग कर विष्णु लोक को जाता है।