यात्रा रेखा

यात्रा रेखा

यात्रा रेखा– शास्त्रों में हमारी हथेली में पाई जाने वाली रेखाओं का बहुत महत्व है जिससे हम बहुत से जीवन से जुड़े रहस्य का पता लगा लेते है यात्रा रेखा आपके यात्रा में जाने के योग को दर्शाती है।

यात्रा रेखा कौन सी होती है-

यात्रा रेखा कलाई व ह्रदय रेखा के मध्य फैली हुई होती है।

यात्रा रेखा का सम्बन्ध-

यात्रा रेखा का सम्बन्ध यात्रा में बाधाओं और सफलता का सामना, यात्रा में स्वास्थ्य के प्रतिकूल व अनुकूल प्रभाव को,यात्रा की अवधि से होता है।

यात्रा रेखा का जीवन में असर-

यात्रा रेखा चन्द्र पर्वत से जीवन रेखा पर मिले– अगर यात्रा रेखा चन्द्र पर्वत से शुरू होकर जीवन रेखा तक मिलती है तो आप छोटी यात्रा पर जा सकते है अगर ये ही रेखा सूर्य,भाग्य पर जाकर मिले तो बड़ी व सफल यात्रा के योग बनते है।

यात्रा रेखा भाग्य रेखा से मिलती हो– यात्रा रेखाएं भाग्य रेखा से मिले तो व्यक्ति की भौतिक यात्राऐं लाभदायक होती है।

यात्रा रेखा का मिलन मणिबंध रेखा से चन्द्र पर्वत पर हो– अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर चन्द्र पर्वत पर जाये तो अच्छे यात्रा के योग है।

यात्रा रेखा का मिलन मणिबंध रेखा से गुरु पर्वत पर हो– अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर गुरु पर्वत पर जाती है तो व्यक्ति लम्बी यात्रा में जाता है जो उसके लिए अच्छी भी होती है।

यात्रा रेखा का मिलन मणिबंध रेखा से शनि पर्वत पर हो– अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर शनि पर्वत पर जाती है तो यात्रा में  दुर्भाग्यपूर्ण घटना होने का भय रहता है।

यात्रा रेखा का मिलन मणिबंध रेखा से सूर्य पर्वत पर हो– अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर सूर्य पर्वत पर मिलती है तो यात्रा से आपको नाम,पैसा,प्रसिद्ध होने सम्भावना होती है।

यात्रा रेखा का मिलन मणिबंध रेखा से मंगल पर्वत पर हो– अगर यात्रा रेखा पहली मणिबंध रेखा से निकलकर मंगल पर मिले तो मतलब आप अपने व्यवसाय में सफल होंगे और अचानक यात्रा से धन लाभ भी हो सकता है।

यात्रा रेखा का झुकाव निचे की ओर हो– अगर यात्रा रेखा चन्द्र पर्वत से शुरू होकर ऊपर न जाकर उसका झुकाव निचे की और होता है तो असफल यात्रा के योग बनते है।

दो यात्रा रेखाये आपस में कटती हो– अगर दो यात्रा रेखा एक-दूसरे को परस्पर कट रही है तो आपका अपने कार्य के लिए दो-तीन बार जाना पड़ सकता है।

यात्रा रेखा मस्तिष्क रेखा से मिलती हो– अगर यात्रा रेखा मस्तिष्क रेखा से मिलकर बिंदु, क्रॉस कटती है तो यात्रा के दौरान सिर पर चोट लग सकती है।

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*


*